LOADING

Type to search

डॉ. प्रीति सुराना

डॉ. प्रीति सुराना
डॉ. प्रीति समकित सुराना वारासिवनी, जिला बालाघाट (मप्र) एक छोटे से कस्बे में रहती हैं, बीकॉम, एम. ए. हिंदी साहित्य के साथ एक्यूप्रेशर की DAT किया है। मातृभाषा के विषय पर शोध जारी है। ‘अंतरा- शब्दशक्ति” की संस्थापक और संपादक होने के साथ साथ लेखिका भी है गद्य और नई कविता के साथ विभिन्न विधाओं पर भी लेखन सतत जारी है। “मेरा मन” ब्लॉग एवं फेसबुक पेज की लेखिका जिनके अब तक 2 काव्य संग्रह, 1 कर्म इकतीसा , और 1 पारिवारिक परिचय पुस्तिका प्रकाशित हो चुकी है, 1 गद्य संग्रह और 1 काव्य संग्रह प्रकाशाधीन हैं। अब तक 16 साझा संग्रह का हिस्सा रही हैं, आगामी 12 साझा संग्रह प्रकाशाधीन है । 4 साझा संग्रह संपादित किये हैं। और आने वाले 5 संग्रहों में विशिष्ट संपादक की भूमिका में हैं, 7 साझा संग्रह सम्पदान में प्रकाशाधीन हैं।
एक मासिक पत्रिका ‘हिंदी सागर’ जेएमडी प्रकाशन की प्रधान संपादक होने के साथ वेब मासिक पत्रिका अंतरा-शब्दशक्ति का भी संपादन कर रही हैं। पिछले एक वर्ष से प्रिंट मीडिया में दैनिक लोकजंग, भोपाल से प्रकाशित अखबार में बतौर साहित्य सम्पादक कार्य कर रही हैं। साथ ही www.antrashabdshakti वेबसाइट पर सतत सक्रिय हैं।
हिंदी सेवा हेतु प्रकाशन एवं प्रिंट मैगज़ीन शुरू करने के लिए प्रयासरत हैं।
छोटे से शहर से बड़ी सोच के साथ लगातार देश भर में कई साहित्यिक कार्यों में सक्रिय होकर अनेक सम्मान प्राप्त किये हैं।
लेखन को स्वान्तः सुखाय स्वयं के लिए संजीवनी, और आगामी जीवन का पाथेय मानती हैं। हिंदी सेवा के साथ गौसेवा एवं विविध संस्थाओं में पदासीन होकर कार्य कर रही हैं|
भ्रमण भाष: +91-9009465259 | 9424765259
अणुडाक : pritisamkit@gmail.com
अंतरताना : www.pritisamkit.com