LOADING

Type to search

प्रथम चरण में १ करोड़ भारतीयों का जनसमर्थन हासिल करेगी हिन्दी

Uncategorized अख़बार आंदोलन केंद्रीय सूचनाएँ खबरों में हिन्दी ग्राम नवीन सूचनाएँ प्रकाशन सामग्री समाचार कोना समाचार विज्ञप्ति

प्रथम चरण में १ करोड़ भारतीयों का जनसमर्थन हासिल करेगी हिन्दी

gramhind June 30, 2018
Share

प्रथम चरण में १ करोड़ भारतीयों का जनसमर्थन हासिल करेगी हिन्दी

* मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए किया आंदोलन का शंखनाद

*१ करोड़ भारतीयों को बताया जाएगा हिन्दी क्यों होनी चाहिए भारत राष्ट्रभाषा

* जनसमर्थन के माध्यम से जुटेंगे भाषासारथी

इंदौर। भारत की वर्त्तमान में कोई आधिकारिक राष्ट्रभाषा नहीं हैं, और इसीलिए मातृभाषा उन्नयन संस्थान देशभर में हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए सम्पूर्ण राष्ट्र का समर्थन प्राप्त कर रही हैं।  इसी कड़ी में संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ एवं दल द्वारा जनसमर्थन अभियान की शुरुआत की गई और देश के १०० से अधिक हस्तियों का समर्थन हिंदी के लिए प्राप्त कर रहे हैं।  इसी के साथ संस्थान अब एक करोड़ से अधिक भारतीयों को पत्र, अणुडाक (ईमेल) के माध्यम से सन्देश भेजकर उसी में प्रतिज्ञा पत्र के साथ समर्थन पत्र का प्रारूप भेजा जायेगा। जल्द ही संस्थान मिस्ड कॉल सेवाओं के माध्यम से भी हिन्दी के लिए जनमत संग्रह करेगी।

उक्त जनसमर्थन अभियान का का उद्देश्य हिंदी को भारत की आधिकारिक राष्ट्रभाषा का दर्जा दिलवाना हैं, इस हेतु संस्थान ने आधिकारिक नारा जारी किया है- ‘ हिंदी के सम्मान में, हर भारतीय मैदान में’। संस्थान के हिन्दी भाषासारथियों और संगणक योद्धाओं का दल देश के सभी प्रान्त के हिन्दी प्रेमियों को संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ जैन का पत्र और हिंदी आखिर क्यों भारत में स्थापित होनी चाहिए इस संशय निवारण हेतु लिखी पुस्तिका ईमेल, डाक आदि के माध्यम से प्रेषित किया जायेगा और उसी के साथ हिन्दी में हस्ताक्षर करने की प्रतिज्ञा पत्र और हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने का समर्थन पत्र भेजा जायेगा, जिसे प्राप्तकर्ता द्वारा भरकर उस पर हस्ताक्षर करके मेल या डाक के माध्यम से पुनः भेजना होगा, जो बतौर समर्थन संस्थान द्वारा प्रधानमंत्री तक पहुंचा कर हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की मांग को पुरजोर रखा जाएगा। हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए ट्वीटर, फेसबुक आदि माध्यमों से भी जनजागृति हेतु संस्थान के संगणक योद्धाओं द्वारा कार्य किया जाएगा।

गौरतलब है कि मातृभाषा उन्नयन संस्थान, मातृभाषा.कॉम, अंतरा शब्दशक्ति  व हिन्दीग्राम मिलकर  विगत २ वर्ष से   देश भर में ‘हस्ताक्षर बदलों अभियान’ का संचालन कर रही है, जिसके अंतर्गत हिन्दी में हस्ताक्षर करने की प्रेरणा देने के साथ प्रतिज्ञा पत्र भी भरवाया जाता है।  और वर्तमान में हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के उद्देश्य से संस्थान जन समर्थन अभियान चला रही हैं,  हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के समर्थन के लिए मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ ने सोमवार से जनसमर्थन अभियान की शुरुआत की। देश की 100 बड़ी साहित्यिक हस्तियों के साथ लगभग हर राज्यों के मुख्यमंत्रियों से भी डॉ. जैन व संस्थान के भाषासारथी मिलेंगे । संस्थान के अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ व महासचिव डॉ. प्रीति सुराना ने हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए जनसमर्थन अभियान की शुरुआत की है। इस अभियान के तहत संस्थान के अध्यक्ष देश की 100 बड़ी साहित्यिक हस्तियों से मिलेंगे और उनका सम्मान भी करेंगे इसके अलावा संस्थान के पदाधिकारी, प्रदेश अध्यक्षों समेत संस्थान के 10000 वरिष्ठ भाषासारथी, हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए 10 हजार से ज्यादा प्रसिद्ध व्यक्तियों से मुलाकात करेंगे।

संस्थान की राष्ट्रीय महासचिव डॉ प्रीति सुराना ने अभियान की जानकारी देते हुए बताया कि ‘ संस्थान वर्तमान दौर के अनुसार हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने हेतु संगणक योद्धाओं का दल बना रही है, जिसका उद्देश्य हिन्दी सम्बंधित आंदोलन और जानकारियों को सोशल मीडिया आदि के माध्यम से राष्ट्रभर में पहुंचाएगा, जिससे राष्ट्र के हिन्दीभाषा प्रेमी एक जुट होंगे और हिंदी के गौरव की पुर्नस्थापना करने में अपना योगदान देंगे, इन्ही योद्धाओं के बल पर संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ के नेतृत्व में हम हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने हेतु जनमत संग्रहण करेंगे और उचित मंच पर इसकी पैरवी करेंगे।’

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ द्वारा लोगों से जनसंपर्क के माध्यम से जनमत संग्रहण किया जायेगा । हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के महाअभियान  को देखते हुए डॉ. जैन व डॉ सुराना सहित राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संजयकोचर, राष्ट्रीय सचिव कैलाश बिहारी सिंघल, कोषाध्यक्ष समकित सुराना, कार्यकारिणी सदस्य कीर्ती वर्मा, बृजेश शर्मा विफल, पिंकी परुथी, शिखा जैन, अदिति रुसिया, मृदुल जोशी के साथ म.प्र. के प्रदेश अध्यक्ष कमलेश कमल, राजस्थान से रिखबचंद राँका, कश्मीर से नसरीन अली ‘निधी’, नीना जोशी आदि ने युद्धस्तर पर सक्रिय होकर देश की तमाम बड़ी बड़ी साहित्यिक व राजनैतिक हस्तियों से मुलाकात करने का अभियान चलाया है।आने वाले दिनों में डॉ.जैन व दल कुछ प्रमुख लोगों से मुलाकात का सिलसिला जारी रखेंगे। उक्त जानकारी संवाद सेतु रोहित त्रिवेदी ने दी ।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *