हिन्दी आन्दोलन – हिन्दी ग्राम
LOADING

Type to search

हिन्दी आन्दोलन

Uncategorized आंदोलन

हिन्दी आन्दोलन

gramhind January 10, 2018
Share

*आंदोलन*

प्रारंभ हुआ है एक आंदोलन,
प्राणबँध जहाँ न्यौछावर हैं
जहाँ सपूत शिवाजी से हैं,
जिसमें सुभाष-सा आवेश है।

हिन्दी के अभिमान के लिए
संकल्पित सब अभिलेख हैं
जहाँ बलिदानी लक्ष्मी बाई है
जिसमें झलकारी-सा निर्देश है।

राष्ट्रभाषा का गौरव मिले
निज प्राणों का वैभव ऐसा
जहाँ समर में अर्जुन योद्धा,
जिसमें लक्ष्मण-सा उपदेश है।

पुन: विश्वगुरु बनेगा भारत,
कर्तव्यपथ की है यह हुंकार
जहाँ कलाम भी सिपाही बनते
जिसमें महाराणा-सा सर्वेश है।

हृदयतल से आमंत्रण देते
रण में गूंजन हो हिन्दी का
भरत का गौरव तन इसका
जिसमें शकुंतला-सा वेश है।

सद्भावना का संचारपथ
राष्ट्र को सर्वस्व समर्पित
सजग प्रहरी वीर तेजा से
जिसमें विवेकानंद-सा लेश है।

धरा के स्वाभिमान की रक्षा,
हर भारतवंशी की हैं प्रतिज्ञा
कर्म जहाँ स्वीकारे हमने
जिसमें मदन-सा संदेश है ।

हर कर जुड़कर लिखे राष्ट्रप्रेम
राष्ट्र ही हो जहाँ सबसे पहले,
जहाँ आत्मा में चैतन्यता होती
जिसमें भगत-सा परिवेश है।

प्रारंभ हुआ है एक आंदोलन,
प्राणबँध जहाँ न्यौछावर है
जहाँ सपूत शिवाजी से है,
जिसमें सुभाष-सा आवेश है।

*डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’*

*हिन्दीग्राम, भारत*

Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *